Posted by: rajprajapati | 26/07/2016

मत-दान का मुल्यांकन कीजीये,

मत का मुल्यांकन

हमे आज तक सभी राजनेताओने एक सच से विमुख रखा है, हमे बताया और समजाया जाता है की हमारा मतदान अमुल्य है। वास्तविकता सही है की हमारा मत अमुल्य तो है ही फीर भी उसको धनराशी के तरीके मुल्यांकन भी कीया जा शकता है।

 हम कोइ भी निर्वाचन के लीये मतदान करते है तो सामान्य रूप से वह पांच साल की अवधि के लीये होता है, पांच साल तक निर्वाचित जनप्रतिनिधि जनसमुदाय से वसुले जाते तरह तरह के कर से बने राजकोष से जनसमुदाय की सार्वजनीक सुविधा एवं प्रसाशन का प्रबंध करते है, 

     सभी तरह के निर्वाचित सता मंडळ का सालाना राजकोषिय अंदाजपत्र घोषित होता है, हर साल अंदाजपत्र घोषित होता है, पिछले पांच साल के अंदाज पत्र से मालुमा होता है की प्रतिवर्ष कीतने प्रतिशत से अंदाजपत्र की बढोतरी होती है, बढोतरी प्रतिशत के हिसाब से आप निर्वाचन के बाद आनेवाले पांच साल का राजकोषिय अंदाजपत्र का अंदाज नियत कर शकते है, सभी सता मंडल के मतदाताकी सुची भी घोषित होती है,

     सता मंडल के पांच साल के राजकोषिय अंदाजपत्र की राशी को कुल मतदाताओकी संख्या से भागाकार करने से एक मत की अंदाजीत मुल्यता समजी जा शकती है।,

     उ.दा. — गुजरात के २०१७ के विधानसभा के चूनाव मे २०१७ से २०२२ तक की अवधि के लीये ५,१५,००,००० मतदाता मतदान करने की संभावना है और पिछले पांच वर्षोकी प्रतिवर्ष की प्रतिशत बढोतरी को जोडते हुए २०१७ से २०२२ तक के विधानसभा सता मंदलका राजकोषिय राशी ९.००.००.००.००.००.००० नौ लाख करोड होता है. राजकोषिय राशी का मतदाता की संख्या से भाग करने से संभवित रूप से एक मत का अंदाजीत मुल्य १,७५,००० का हो शकता है। गुजरात का मतदाता अगले विधानसभा के चूनाव में संभवित १,७५,००० के मत (चेक) दान करेगा

     अब सभी राजनेतिक दल और नेता मेरी यह मुल्यांकन विधी को अवैध बतायेंगा, चूनाव आयोग और सर्वोच्च न्यायालय एवं राज्योकी वडी न्यायपालीकाओ में एसी मुल्यांकन विधि के लीये नैतिक द्रोह का आक्षेपकी याचीका भी कर शकते है। में भी यही चाहता हुं की इस मुल्यांकन विधी की भारत के सभी नुक्कड पर चर्चा हो।

भारत के चूनाव आयोग को हम सब भारतीय जन समुदाय की ओर से सुझाव याचीका दायर करनी चाहिये की चूनाव आयोग कोइ भी सता मंडल के निर्वाचन से आनेवाले वाले पांच साल के राजकोषिय अंदाज प्रसिध्ध करवायें मतादाता की कुल संख्या की भी घोषणा हो, चूनावो के पहले संबंधित सतामंडल के मतदाता की संख्या और अगले पांच साल के जनसमुदाय के कर से एकत्रीत होनेवाली राजकोष की धनराशी घोषित करनेकी विधी सम्मलित करे, ,

भारत के सर्वोच्च न्यायपालीका को भी हमारे जन समुदायकी ओर से याचीका होनी चाहिये और इस विषय पर चर्चा होनी चाहिये।

लोकशाही व्यवस्थाओ के सही निर्माणमें सहयोगी बनने के लीये इस विषय को सभी सोशियल मिडीयामें प्रसारीत करने में अपना  प्रदान करने की कृपा करे.

https://rajprajapati.wordpress.com,  Gandhinagar, Gujarat, Bharat.


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: