Posted by: rajprajapati | 26/09/2013

मोदी चलेगें महाचाल, आयेगा परिवर्तन का भुचाल

( भाग – 1 )

राजनीति नहीं, राष्ट्रनीति

मोदी चलेगें महाचाल, आयेगा परिवर्तन का भुचाल

मानवजीवन और समाजजीवनकी हरएक बातके लीये,

नया कदम, नयी दिशा, नयी मझींले

आपकी बनायी सरकार, आपकी हिस्सेदार,

लोकसाजेदारीसे होगा आमुल परीवर्तनका वैश्र्विक विकास

अंतिमसे पहेली पंकतिके हरएक नागरीकको जोडकर होगा एक भारत

प्रादेशीक पक्षो और जाती-पातीसे निकलकर होगी मानवताकी गुहार

 

    भारत जैसे दुनियाकी युवा लोकशाहीकी लोकसभा चुनावके लीये भारतीय जनता पार्टीने प्रधानमंत्री पदके लीये नरेन्द्र मोदीको घोषित करनेके बाद भारतमें राष्ट्रनीतिका नया धर्मयोग प्रचलन होनेसे अनुठा माहोल बननेकी खबरोने विपक्षी दलोको बेचेन कर दिया है, विरोधि दलोको हरानेकी साजीस करने के बजाय नंरेन्द्र मोदीने मतदाताओ जीतनेकी एक नयी राष्ट्रनीतिको अखत्यार कीया है,

       भारतके गुजरात राज्यमें तीन तीन चुनावमें आम जनताका बहुमत समर्थन पानेवाले नरेन्द्र मोदीने ग्यारह सालमें भारतमें कभी नहीं हुए अनेकानेक प्रजाहितके कार्योको संपन्न करके एक विकास पुरूषके रूपमें प्रतिभा स्थापित करदी है जो जीम्मेवारी और समजदारी राष्ट्रके प्रधानमंत्रीमें होनी चाहिये वही सारे कार्योसेभी उपर उठकर नरेन्द्र मोदीने छोटे राज्यमें वैश्र्विक कार्योको संपन्न करके अपनी प्रतिभाका सबुत दिया है,

       भारतमें 45 सालोमें जो कार्य और जो सोच कोंग्रेस पार्टीकी रही उसमें कभी भारतकी वैश्र्विक उन्नतिकी दिशा नहीं बन शकी जीसके कारन आम आदमीकी शक्तिओको विश्र्वके अन्य जनसमुदयके साथ प्रवाहित होनेमें मुश्केली उठानी पड रही है,

       कोंग्रेस की तरफसे भारतके प्रथम प्रधानमंत्री जवारलाल नहेरूने आराम-हराम है का जो सुत्र दिया था उसको कोंग्रेसने अपनाया नहीं है लेकीन उस अच्छी बातको नरेन्द्र मोदीने टःईकसे हजम करके  अपनाया है, आज बीनारूके बीना आरामके पीछले बारह सालोसे मोदी चले जारहे है और भारत के अलावा दुनिया उस चाल को देखभी रही है, जहाभी, जोभी अच्छा है उसको भारतके लीये जोडनेका मोदीका जीवनभरका अनुष्ठान चल रहा है,

       विरोधी दलो और दुसरे इषालुओको मोदीकी बुराइयां करनेमें, उनकी वैश्र्विक अच्छाइको देखनी की अक्क्ल चलती नहीं है, ‘बी –पीझीटव, गेट-पोझीटीव” का मंत्र लेकर चलनेवाले मोदीने गुजरातमें बैठकर चुनावमें भारतके सभी नागरीकोको एक मंच पर जोडनेकी लीये राष्ट्रनीतिसे उठाये कदम अभीतककी लोकसेवाके क्षेत्रोमें पहेला प्रयोग माना जायेगा, टेकनोलोजीका प्रयोग कोइभी आम आदमी कर शकता है लेकीन मोदीने टेकनोलोजीका प्रयोग करके नागरीकोको सही सरकार बनानेके लीये आहवान कीया है, भारतकी युवा पेढीने उस आहवानको स्विकार कीया है और इन्टरनेटसे दुनियाकी नामाकींत सोशीयल मीडीया पर हरपल हरघडी भारतके इस लोकनायक नरेन्द्र मोदीके राष्ट्रनीतिके इरादोको लगातार जन–जनमें फैलाते जा रहे है,

       भारतके गांव गांव तक अंतिम पंक्तिके आमआदमीकी पहेचान अब राष्ट्रीय स्तर पर हो शके इसलीये मोदीने दिखायी नयी दिशाओके कारन अभीसे आमआदमीको मोदी अपना लगने लगे है, जो राजनीति एवं लोकसेवाके क्षेत्रोमें पहेलीबार देखनेको मील रहा है,

        गुजरातमें अभी तकमें मोदीने मानवजीवनसे सबंधित सभी पहेलुको परखा और उनको बहेतरीन बनानेकी लीये ठोस कदम उठाये है बच्चेका जन्म होनेसे पहेलेसे उनकी माताका ख्याल करनेकी सरकारकी व्यवस्था आज गुजरातमें कार्यरत है, अस्पतालो और गांवोके चिकित्सा केन्द्रोमें आज सरकारने माता और बच्चेके स्वास्थ्य हेतुं पुर्ण प्रबंध कीये है, गुजरातमें बच्चोकी चिकित्सा और उनकी माताका स्वास्थ्य सलामत रहै उनके लीये “खीलखीलट” नामक चिकीत्सावेन फोनकोल पर ही दोडती रहती है, साथसाथ चाहो-कही, जब मांगो वहा, दोडकर आनेवाली गुजरातकी 108 अम्बुलन्स सेवासे पुरा देश परीचित हो चुका है।  

       चिकीत्सा क्षेत्रमें नये चिकित्साशिक्षा कालेज और उनके लीये नयी इमारते बनवाकर आनेवाले भारतकी चिकित्सा शक्तिको आजसे मजबुत करनेकी उठायी मुहिमसे गुजरातमें चिकित्साके क्षेत्रमें एक नया मुकाम बन रहा है,

        बच्चा बोलना-चलना शीखे उसके साथही उसको सही खुराक और अच्छी शिक्षाके प्रति अनुग्रहित करनेके लीये गांव गांव और हर शहेरमें आंगनवाडीकी आइ.सी.डी.एस. योजनासे बच्चोके साथ-साथ बेवा और त्यकता महिलाओको अपने गांवमें रोजगार उपलब्ध करवाके बालसुरक्षा और महिलाओकी प्रशिक्षाकी दिशामें भी एक नया मुकाम हांसील कीया है, बच्चोमें रहेनेवाली आयर्नकी कमीके लीये आयर्नवाली चोकलेट-टोफीको खास तौर पर बनवाकर आंगनवाडीके माध्यमसे बच्चोको सक्षम बनानेका नवनीतम प्रयोग अमलमें लाया गया,

 फोर्टीफाइड आटेसे गरीबोकी केल्शियमकी कमीको दुर करनेका अभियान चलाया जा रहा है, पैदा होनेसे पहेलेसे सुरू होकर जीवनके हर कदम पर नंरेन्द्र मोदीने सुविधा और पोषणका पुरा प्रबंध करके भारतीय इतिहासमें लोकनायकके रूपमें नया मुकाम बनाया है, राजनीतिके क्षेत्रमें मोदीने नयी दिशाओको जन्म दिया है, वही उनकी अप्रितम लोकप्रियताका रहस्य माना जाता है,   

       गांधीजीने जीसके लीये जीवनभर अंदोलन चलाया उस बुनियादी शिक्षाके लीये नरेन्द्र मोदीने पीछडे हुए गांवसे शहरकी स्कुलो तक आधुनिक शिक्षाका बहेतरीन प्रबंध करके छात्रोकी सुविधाके लेये 2300000से अधिक कमरे बनावे है, माध्यमिक छात्राओके लीये हर शाल विधाबोन्डसे आनेवाले भविष्यकी धनराशीका भी पहेलेसे प्रबंध कर दिया है, आसपास और थोडे दुर शिक्षा हेतु यात्राके लीये बालीकाओको खास तौरसे साइकील देकर, उनके समयका बचाव कीया जानेका विचार नंरेन्द्र मोदीको महिलाओके प्रति अपने आदरको प्रतिपादित करता है,

        ग्रामपंचायतो और बुनियादी पाठशालाओको कम्पुटर और टेलीविझनसे “इ-ग्राम” कनेकटीवीटीझ से जोडा जा रहा है, 18000 गांवोमें एक ही साथ सुचना और शिक्षाके लीये उनका प्रयोग हो रहा है, टेकनोलीजी और मानवशक्तिकी सझेदारीसे आनेवाले 7-8 सालोमें गुजरातका आमआदमी दुनियाके सभी कालेझ- सभी बाजारो –सभी इन्डस्ट्रीझसे सीधा व्यवहार करके दुनियाके कोइभी कोनेसे आमदानी कर पायेगा,

        अच्छे खानपानके साथ सही मात्रामें दुधकी व्यवस्था बननाके लीये पशुचिकीत्सा मेले करके पशुओको बिमारीयोसे बचाकर रोगमुक्त करके दुध उत्पादनको तीन गुना बढाया गया है, भारतकी राजधानी दिल्हीमें गुजारतकी डेरीका दुध पहुंचाया जाता है गाय और पशुओके सुविधा और सुरक्षाके लीये गांव गांवमें गौशालाओका लोकसाझेदारीसे पुरा प्रबंध कीया गया है, पशुओके लीये खास चिकित्सके लीये कृषि महाविधालयोमें पशु चिकित्सा विधालय बनाये गये हैं, पीछले दसकमें नरेन्द्र मोदीने पशु सेवामें पुरा ध्यान लगाकर पशुओको सुरक्षित कीया है मुल औलादके पशुओकी जातको सुरक्षित रखनेके हेतुं उनका बीजबेन्क बनाया गया है, उसके जरीये जातवान औलदके पशुओका सवंनन करके पशुपालनमें नयी क्रांती लायी गयी है, गायो और पशुओके लीये गुजरातमें एनीमल होस्टेल का डेन्मार्क और ब्राझीलसे बढकर सुरक्षा प्रबंध करनेका अभियान चल रहा है, गुजरातके कृषि विधालयोमें स्थीत पशुचिकीत्सा कालेजके अस्पतालोमें इन्सानोकी तरह पशुओकी शस्त्रकीयाका प्रबंध हो चुका है, पशुओके लीये बोडीस्केनर और सोनोग्राफी मशीने लगवायी गयी है, पशुओकी आम बिमारीओको मुलरूपसे खत्म करनेके लीये सालमें दोबार अभियान चलाया जाता है,

       अच्छी दुध, अच्छी खुराक, बिजली का हंमेशा उजाला, अच्छी बिनयादी शिक्षाको आगे बढाते है उच्च शिक्षाके प्रबंध करते हुए नरेन्द्र मोदीने लोकसाझेदारीसे गुजरातके कोने कोने तक माध्यमिक-इंटर शिक्षाके कालेझ और उच्च और इंटरनेशनल शिक्षाके लीये आइ.आइ.एम., फेशन डीझाइनींगके लीये नीफट जैसी कालेझ कार्यरत करनेका अभियान चालाय है, गुजरात कीसी क्षेत्रकी शिक्षामें पीछडे नहीं उसके लीये चिल्ड्रन युनीवर्सीटी, पेट्रोलीयम युनीवर्सीटी, आतंरीक सुरक्षा प्रशिक्षण हेतुं रक्षा युनीवर्सीटी, योगा युनीवर्सीटी, जैसी सभी क्षेत्रोकी युनीवर्सीटीओकी स्थापना करके वैश्र्विक फलक पर गुजरातने दुनियाके लोगोको आकर्षित कीया है दुनियाके 22 देशो और भारतके सभी राज्योसे छात्र गुजरातकी कालेजो, युनीवर्सीटीमें शिक्षा लेकर अपना उज्जवल भविष्य बनाये हुए है,

       बाजारोमें मीलनेवाले खुराकी पदार्थोकी गुणवताका नियमन करने हेतु आरोग्य विभागके औषधिय प्रभागसे मोबाइल लेबोरेटरीका ओनरोड प्रबंध कीया है, अब गुजरातमें बीक रहे है खाध्य सामग्रीकी शुध्दता बहेतरीन और इन्टरनेशनल बाजार जैसा कवोलीटी बेझ बनानेली नयी क्षितिजे उजागर की है, कृषिमें होर्टी कल्चर और फ्लोरीक्लचर कृषिसे फलपेड और खेतोके किनारे फिझुल जगाओमें फुलोकी खेतीकीका कृषिमें एक विशेष निर्देशन किसानो दिया जा रहा है, जमीनके एक-एक इंचका स्तुत्य प्रयोग करके समाजजीवन और नीजी जीवनमें आम आदमीको नरेन्द्र मोदीके साशनकालमें नयी दष्टि प्राप्त हुइ है,

       प्रदुषण और ग्लोबल वोर्मींगकी समस्यासे लडते हुए नंरेन्द्र मोदीने गुजरातमे बरसातके पहेले वुक्ष उत्सवसे लाखोकी संख्यामें नये पेड बोये है, राज्यके वनविभाग और कृषि विभाग केसहयोगसे गुजरातमें वन महोत्सवके सालाना आंदोलनसे राज्यमें वनीकरन का विकास हुआ है, जील्ला औय तहेसीलोमें आयुर्वेदिक पेड पौधो और विभिन्न पेडोको बो कर नरेन्द्र मोदीने वनीकरणमें भी नया इतिहास रचा है,

       जल व्यवस्थापन के लीय नर्मदा बांधको 129 मीटरकी उंचाइ तक लेजाकर आज पुरे गुजरातमें केनालकी जाल बनाकार कृषिको हंमेशाके लीये अकालसे मुक्ति दिलवायी है, पंजाबके बाद भारतमे6 गुजारत अब अकाल मुक्त राज्य बना है जो अपने आपमे एक ऐतिहासिक घटना है नर्मदा की नहेरोसे राज्यकी दुसरी वर्षा नदीओमें जल पहुंचानेका कार्य जारी है भविष्यमे6 गुजारतकी सभी नदीयोमें हँएंशा पानी भरा रहेगा और कृषिकी तीन फसले पैदा की जायेगी,

       प्रकृतिक उर्जा स्त्रोतको अपनाकर  सौरउर्जा और पवनउर्जा को विशेष प्रावाधान्य देकर नंरेन्द्र मोदीने सौरउर्जा और पवनउर्जासे बीजली उत्पादनमें आज देशमे6 गुजारतका नाम पहेले क्रमांक रखा है कोयलेसे पेदा होनेवाले बिजलीसे भविष्यमें  गुजरातके शहेरोको जोदनेवाली इन्टर सीटी इलेक्टीक ट्रेनका भी विचार आगे आ रहा है ग्लोबवार्मींग और प्रदुषणसे मुक्त बिजलीका घरोमें प्रयोग करनेका पुरा प्रबंध करनेके लीये नरेन्द मोदीकी सरकारने नयी योजना लागु क्रनेका कामभी पुरा कर लीया है  अब गांवो औरशहेरोकी छत पर सौर उर्जा पेनलसे बिजली उत्पादन करके उपयोग कीया जायेगा और उसके लीये गुजरातमें  ही  सौरौर्जा पेनल का उत्पादन कीया जायेगा, सस्ते दामोमे पेनल उपलब्ध करवाके मोदी पुरे गुजरातके घरोको पेनलसे ढक लेना चाहते है उसके नतीजोसे बाकीकी बिजलीसे प्रदुषण मुक्त परीवहनका प्रबंध कीया जायेगा,

       वास्मो योजना अंतर्गत गुजरात के गाव गव तक क्षाररहित जल प्रबंढ करनेका अरौअ सवसच्छता का दस आलोसे अभियान चालाया गया है उसके नतीजोसे आज गांव गावमें सफाइके साथ शुद्ध जलसेवाका प्रबंध हुआ है, स्वच्छताकेलीये  गांधेजीके उपदेशका पालन करते हुए नरेन्द्र मोदीने शौचालयोके लीये गांव गांवमें योजनाओको परिपादित करवाया है।             

ज्योतिग्राम योजनासे नये केबलतार लगवाकर घर वपराशके लीये पुरे दिन और कृषिके लीये 8 घंटे बिजली का पावरफुल प्रबंध कीया है बिजली उत्पादकताके बढानेकी लीये  नये पावर प्रोजेकटोका प्रारंभ करवाया है, झेटको बोर्डके जरीये नये सब स्टेशन और जंकशन स्टेशन बनवाये गये है बिजलीकी चोरीको नीवसे खत्म करनेके लीये डीजीटल मीटर लगवाके सही खर्च वसुलनेकी व्यवस्थाभी बनायी गयी है,  

        कम पढे लीखे गरीब-मध्यमके युवाओको तकनीकी तालीमसे रोजगारके लीये  सक्षम बनानेके लीये औधोगीक तालीम संस्थानमें नये सुविधाओके साथ नये मकान बनवाये गये है, स्कील डेवलोपमेन्टके लीये  छोटे मोटे शहेरोमें और तहसीलके प्रमुख गांवोमें विविधलक्षी कम्पुटर तालीमके लीये सी.सी.सी. प्ल्स का कोर्ष करवाया जाता है, “स्कोप” नामक अंग्रेजी शीखानेका व्यापक प्रबंध कीया गया है, सीर्फ भाषाकी कमीसे गुजरातके आदमीको परदेशमे6 भी कोइ मुश्कील ना हो और विश्र्वके समान्य प्रवाहमे6 अपने आपको बपीछडा हुआ महेसुस ना कर पाये इसलीये नंरेन्द्र मोदीने गुजरातमें विश्र्वभाषाको शीखानेका लोकसझेदारीसे प्रबंध कीया है, गांव गांवमें और शहेरोकी सेवा संस्थानो के माध्यमसें सीलाइ गुनाइ और कटाइके क्लास चलाकर महिलाओ को अपनी मरजी के समय पर रोजगार पानेके लीये सक्षम बनानेके लीये सेवाका पुरा दौर शूरू कीया है,

       गुजरातमें गांव-गांवको जोडनेवाली सडकोसे किसानो और गांवके लोगोको शहेरीजीवनके साथ जोडकर वैश्र्विक प्रवाहसे जोडा गया है अभी तक भारतके काफी शहेरोमें बी.एम.डबळ्यु. औडी जैसी लकझरीस कारे आयी नहीं है लेकीन गुजरातके विकसीत गांवकी गलीयोमें लकझरी कार होना अब आम बात होने लागी है,  जमीनोप के दस गुना भाव बढे है इंफ्रास्ट्रकचरके दिशामें गुजराती बिल्डर्सने नाय रिकोर्ड बनाया है दुनियाकी सभी टेकनीकी उपलब्धीयोका प्रयोग करके अहेमावादको गुजरातीओने भारतका तीसरे नबंरका विकसीत मेगाशहेर बनाया है दुनियाकी सबसे नामाकिंत कार कंपनी रोल्स रोयल्सने अपना तीसरा शो-रूम अहेमेदाबदमें लगाकर गुजारतकी रोनक का दुनियाको परीचय दिया है,

        सरकरने खाली जगाओ और झोपडपट्टीओको हटाकर स्थानीय बिल्डरोके साथ लोक हिस्सेदारीसे फिजुल सार्वजनीक जगाओ पर इमारते बनवाकर गरीबोको रहेनाका अच्छा घर देनेकी योजनाका चयन कर दिया है आनेवाले तीन सालोमे6 गुजरातकी सभी झोपडपट्टीयां नीकल जायेगी वहा प्र नये सुशोभीत एपार्टेमेन्ट  बन जायेगें इस योजनासे 25 लाख घर बनाये जायेगें जीसके नतीजेके रूपमें गुजरातमें कोइ गरीब पैसोकी कमीसे बीना छतका फुटपाथ पर सोया हुआ नहीं मीलेगा,    

       नरेन्द्र मोदीकी औधौगिक नीतिके रास्ते पावर प्रोजेकट, मारूती-सुझुकी मोटर्स, जनरल मोटर्स  ताटा मोटर्स जैसी देशकी प्रथ क्रमाकिंत ओटो मोबाइल्स कंपनीओने गुजरातमें अपना रोजगार उपलब्ध करवाया है, देशमें पीछले दसकमें सबसे ज्यादा रोजगार दिनेवाले राज्योमें गुजरात नंबर वनके स्थान पर है, ग्रामिण विकास केलेये उठाये नये आयामके परीणामसे गांवके युवाओ को नजीदिक शहेरोमें रोजागरका नया रास्ता मीला है, 

       गुजरातको आज टेकनोलोजी हब, सायन्स हब, फार्माक्युटीकल हब, ओटोमोबाइल हब, एज्युकेशनहब के उपनामसे जाना जाता है नीखरते सुरजकी तराह गुजरातने सभी दिशाओमें अपना विकास कीया है, जीसके लीये नरेन्द्र मोदीकी दिशा दष्टि आभारी है,                      

       नरेन्द्र मोदी के मुख्यमंत्री बननेके बाद थोडे सालोमें उसने वैश्र्विक कोर्पोरेट प्रणालीको अपनाकर राज्यकी राजधानीमे6 कोर्पोरेट क्षेत्रमें गुजारत की पएह्चान बनायी है उसके पईणामसे 29 मंझिला इमारतो वाली गिफ्तसीटी का आतंराष्ट्रीय क्लासमें निर्माण हुआ है यहा पर दुनियाकी ताराकिंत कंमनीया अनी कोर्पोरेट ओफिसे लगानेकी नीव रखे हुए है, गुजरात के विकास कारन थॉडे समयमें गुजारतके अहमेदाबादके एयरपोर्टसे दुनियाके मुख्य शहेरोमें सीधी हवाइ सेवाओका प्रारंभ हो चुका है, वही गुजरात के वैश्र्विक विकासकी सही सीध्धी है,भारतके सभी राज्योसे सभी भाषाओके लोग रोजगार और नोकरीके लीये गुजरात आते है तो गुजरातने उसको दो वक्तकी रोटी और सन्मानका जीवन प्रदान करनेमें  अपना योगदान दिया है, ऐसी राज व्यवस्थाके लीये नरेन्द्र मोदीके  प्रसाशनीक योगदान ही उसकी पहेचान बना है,     

       राज्यकी आंतरीक सुरक्षाके लीये और वैज्ञानिक टेकनीकसे गुना शोधनमें गुजारातकी फोरेन्सीक सायन्स लेबोरेटरीको नंबरवन जाना जाता है वैज्ञानिक गुना शोधन शिक्षाके लीये गुजरातमें फोरेन्सीक सायन्स युनिवएसीटीका प्रारंभ हुआ है जो पांच सालोमें गुना शोधनकी सेवामें हजारो कर्मीओका प्रबंध करेगा,

         लोकसिक्षा और लोककलाको देशविदेशमे फैलाकर गुजारतके उत्सवोको भी विदेशकी धरती पर  लोकप्रिय बनया है उसके कारन गुजरातके क्लाकर दुनियाके कहीं देशोमें अपनी कलाओसे बडे नाम-दाम और शोहरत कमा रहे है, दुनियाके सबसे लंबे नृत्य उत्सव गुजारतकी नवरात्री महोत्सवमें दुनियाके 46 देशोसे यात्री महेमान बनते है, पतंगोत्सवकी लीये हरसाल 18 देशोके लोग गुजरातमें उत्सव मनाने आते है, अलग अलग थीम और संस्कृतीको जोडनेवाले लोकउत्सवोने आज गुजरात और भारतकी जनाताको एक मंचसे जोडा है तो साथ साथ दुनियाके 46 से ज्यादा देशोने हमारी सांस्कृतीक विरासतोसे नाता जोडा है, गुजरातकी राजधनीमें हर साल होनेवालो नृत्य कला महोत्सवमें भारतके सभी लोक कलाकारोको आमंत्रीत कीया जाता है तीन तीन के इसलोकक्ला उत्सवमें भारत के सभी कोने कोनेसे आये कलाकारोके माध्य्मसे पीछले दस सलसे नरेन्द्र मोदेनी अपने आपको और पुरे भारतको एक मंच पर जोडनेका आंदोलन चला रखा है गुजरातके सींगर्स, अभीनेता, नाट्य अभीनेताको दुनियाके कहीं देशोसे अपनी कलादर्शनका लाभ देनेका निमंत्रण मीलता है उसके लीये नरेन्द्र मोदीकी राज्य सरकारने लगातार कीये लोकमहोत्सवको श्रेय जाता है,

       आज गुजरातने पुरी दुनियामें अपनी विशेष पहेचान बनायी है, भारतकी हिन्दी फिल्म जगतके ताराकींत अभिनेता नरेन्द्र मोदीके प्रसंशक बने है, भारतकी फिल्मजगतके  महानायक अमिताभ बच्चनने गुजरातसे मोहित होकर निशुल्क सेवादेकर ब्रान्ड एबेसेन्डर का कीरदर निभाया है वही नरेन्द्र मोदीकी लोकप्रियताका एक उच्चतम मुकाम है,

       नरेन्द्र मोदीने अपनी व्यस्तताको समजकर आमआदमीकी फरीयादोको सीधा अपने टेबल परसे हल करनेके लीये ओनलाइन जनफरीयादके लीये “स्वागत” कार्यक्रम जारी कीया है जीसके कारण आमआदमीकी फरीयाद सीधे मुख्यमंत्री कार्यलयमें सुनी और जानी जाती है महिनेके चोथे गुरूवारको नरेन्द्र मोदी वीडीयो कोफरन्ससे जील्लाधिकारीओको सीधी सुचना देकर आमआदमीकी फरीयाद को निपटेनाका नवनीतम कार्यकम कीये हुए है “स्वागत” कार्यक्रमको पीछले सात सालोसे सबसे बहेतरीन जनसेवाका एवोर्ड मील रहा है, गुजरातके ज्यादातर जनसेवा विभागोको एकसे ज्यादा बार राष्ट्रीय और आंतरराष्ट्रीय एवोर्ड मीलते रहे है.

      

( चुनावके लीये कीये गये राष्ट्रीय व्यवस्थापनका एक नजारा भाग -2 में )

(हिन्दी शब्द प्रयोगोकी क्षतिके क्षमा चाहता हुं )

                        

                    राज प्रजापति,

                    गांधीनगर, गुजरात

                    09428661166

                 


Responses

  1. સરસ લેખ


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: