Posted by: rajprajapati | 03/07/2011

लोकपाल… सरकार के उपर सरकार नहीं होती है.

लोकपाल… सरकार के उपर सरकार नहीं होती है.

भारतदेशमें राजनैतिक क्षेत्रमें लोकपाल बिल के लीये काफी चर्चा चल रहा है..

अन्ना हजारे. किरण बेदी, कझरीवाल, वगेरे वगेरे हमारे देश के प्रमाणिक समजे जाने वाले सीवील सोसायटी के लोग देश की संसदमें लोकपाल बिल पास हो और सरकारमें चलते भ्रष्टाचार को रोकने का पुरा प्रबंध करने की मांग को लेके बहुत दिनो से देशमें चर्चा चल रहा है..

अब सबसे अहेम बात तो ये है की संसदीय प्रणालीमें सरकार के उपर कोइ सरकार बनाने का संविधानिक रूपसे कोइ कानून नहीं है.. लोकपाल और लोकायुक्त की नियुकती करने के बाद भी कोइ तरह का भ्रष्टाचार दूर नहीं हो शकता है… क्युकी लोकपाल को भी तो न्यायालयो की तरह ही तो काम चलाना है.. लोकपाल स्वयं जाकर कीसीको भी नश्यत नहीं करनेवाले जो भी कारवाही करनी होगी वो तो सब दुसरे लोगो से ही करनी है. प्रधानमंत्री हो या कोइ भी नेता या महामहिम्न राष्ट्रपतिजी को भी लोकपाल के दायरे में रखा जाये तो भी कोइ फर्क नहीं होता है..

अन्ना हजारे और बाकी के उनके साथीओ ने अभी तक एक बार भी मुख्यमंत्री के रूप मे या प्रधानमंत्री के रूप कोइ सरकार चलायी नहीं है.. अन्ना हजारे और बाबा रामदेवजी को एक बार संसद का चुनाव जीतकर संसद में जाना चाहिये तो ही मालुम होगा की सरकार चलाना कोइ चन्ने चबाने का काम नहीं है.. एक फेकटरी या एक बडा ओफीस चलाने में अच्छे अच्छो का दम निकल जाता है ..तो सोचो के सरकार बनाना और चलाना कीतना कठीन होता होगा….संसद में प्रधानमंत्रीभी बिना इजाजत एक शब्द नहीं बोल शकते है..  वैसे भी हालमें बहुत सारे संविधानिक कानून है की प्रधानमंत्री को भी उअनके पद पर से हटाया जा शकता है.. प्रधानमंत्रीके उअप्र भी महामहिम्न राष्ट्रपतिजी होते है.. सारे देशका संवैधानिक  पावर तो महामहिम्न के पास होता है..  आज भी बीना लोकपाल या लोकायुक्त की ही भ्रष्टाचार दूर हो शकता है…

लोकपाल और लोकायुक्त की वास्तवमें कोइ आवश्यकता ही नहीं होती..

अन्ना हजारे और बाबा रामदेवजी को स्वयं देश के संविधान और संसदिय कानूनो को पढना जरूरी है…

लोकपाल और लोकायुक्त भी भ्रष्ट नहीं होगे उसकी गेंरन्टी कौन देगा..

हमारे मताधिकार से ही जो हमारे पर राज करते है विओ ही तो भ्रष्टाचार करते है हम उसको तो बदलना नहीं चाहते है तो फीर नयी कोइ  व्यवस्था से भी क्या फर्क पडता है..

हमारे देश में जीतना भी भ्रष्टाचार होता है उसके जीम्मेवार लोगो को पकडकर क्यां सजा दे शकते है.. उसको गीरफतार भी करो तो रखोगें कहा ? हमे पहेले 30000000 से ज्यादा लोगो को जेलमें बंध करने के लीये 50000 से ज्यादा जेल बनानी पडेगी… भ्रष्टाचारी को क्यां सजा हो शकती है.. न्यायलयो में केस चलते रहेंगे और जमानत पे छुटकर कोइ भी भ्रष्टाचारी आराम से महेलो में रहे शकता है. आज हमारे लाखो न्यायलयो की सबसे पहेली समस्या ये है की बहुत सारे लोगो को बंध करने के लीये जेल की पुरी सुविधा नहीं है छोटे मोटे केसो में जब समाज के दुसरे लोगो को परेशानी ना हो और दो पार्टीयो के बीच की बात हो तो न्यायलयो में जमानत मील जाती है.. वास्तवमें कानून को सख्ती से चलाया जाये तो पकडे जाने वाले लोगो को रखने की पुरी व्यवस्था नही है भ्रष्टाचार का फोजदारी गुनाह नहीं होता है. सीवील का गुनाह है तो जमानत भी तो हो जाती है.. इसलीये तो आज भ्रष्टाचार एक व्यवसाय की तरह होता है.. ऐसी बनई हुइ अव्यवस्था को  बदलने के लीये लोकपाल और लोकायुक्त की जीतनी आवश्यकता नहीं है उतनी आवश्यकता तो मतदाताओ को जागृत करने की है… लोग भ्रष्टाचार करने वालो को ही मतदान करती है.. राजनैतेक पार्टीओ के सीवा मतादाताओ के पास कोइ दुसरा रास्ता भी तो नहीं है…

अन्ना हजारे और बाबा रामदेवजी का अनशन और दुसरा उपक्रम यु.पी.ए. सरकार को परेशान करके देश के लोगो में उसको बदनाम करके आनेवाले चुनाव में हराकर भाजपा और साथी पार्टीओकी सरकार बन पाये ऐसा वातावरण बनाने के सीवा कोइ ओर नहीं लगता है.

अगर भाजपा भी लोकपाल और लोकायुक्त की नियुकती चाहते हो तो उनके कब्जे में जीतने भी राज्यकी सरकरे है उसमे लोकायुकत की नियुकती जल्द से जल्द  कर देनी चाहिये… भाजपा को कोइ भी तरीके से कोंग्रेस की सराकार को तोडना है और अगले चुनावमें भाजपा और साथी पक्षोकी सरकार बन पाये ऐसा जनमानस में वातावरण बनाने का है. आज अन्ना  हजारे और बाबा रामदेवजी उनके लीये एक हथीयार के समान है..

बाबा रामदेवजी और अन्ना हजारेजी को देश के लोगो में जागृतता कायम करके नया राष्ट्रीय पक्ष कायम करने की जीतनी आवश्यकता है उतनी आवश्यकता लोकपाल बिल की नहीं है..

यहा तक आपको लगता होगा की में कोंग्रेस का समर्थन करता हुं तो नहीं में देश की कोइ भी राजनैतिक पार्टीका समर्थन नहीं करता हुं जीतने बदमाश कोंग्रेस में दीखाय देते है उसके बाप जैसे बदमाश भाजपा के पास भी है.. भाजपा की राजनिती देश के बाहर भी तो कोमी और जातीवादी जानी जाती है.. भाजपा देश की बिना नियमो और सिध्धांतो से चलती पार्टी है.. भाजपा की सरकार केन्द्र में होती तो भी लोकपाल बिल नहीं आता. लोकपाल बिल लाने की भाजपा और उनके साथी पक्षोको जरूर होती है तो सभीको संसद और विधानमंडलो से इस्तीफा देकर देशभरमें जन आंदोलन चलाना चाहिये… बाबा रामदेव के साथ 4/6/2011 को जो हादसा हुआ उनके बाद भाजपा ने सारे देशमें नौटंकी जैसा अनशन कीया था वास्तवमें लोकपाल लाना है तो भाजपा को देश की संसद  और विधानमंडल की सदस्यताओ त्यागपत्र देकर छोडना चाहिये.. भाजपा और उनके साथी पक्ष वाले एक साथ त्यागपत्र देकर देशमें जन आंदोलन चलाये तो कोंग्रस की सारी सरकार भी गीर जायेगी और लोकपाल और लोकायुक्तकी नियुकती भी हो जायेगी..

अन्ना हजारे जी और बाबा रामदेवजी को देश में मतदाताओ को जागृत करने का जन आंदोलन करना जरूरी है. मतदाता ही राजनैतिक पार्टीओ के नीयुकत कीये भ्रष्ट उम्मीदवारो को मतदान नहीं दे तो कोइ भ्रष्टाचारी सरकार बना नहीं शकता है.. हमारे देश के आम आदमी को अब सीधे संसद से जोडना है ..उसके मतदान की यही किम्मत उसको समजानी है…

लोकपाल और लोकायुक्त आये ना आये …

आप सबको मेरी प्रार्थना है की आप अगर सही समाज व्यवस्था चाहते है बिना भ्रष्टाचार का प्रसाशन चाहते है तो जाती, ज्ञाती और कोम ,.. संप्रदाय या धर्म की सारी बातो को एक दिन के लीये भुल कर कोइ भी राजनैतिक पार्टी के उम्मीदवार को मतदान ना करे …

आप का मतदान भी तो भ्रष्टाचार को समर्थन करता आया है.. अब हमे ही तो बदलना है..

हम चुनाव के समय पर कीसी की ना सुने और आत्मा की अवाज सुने ..निर्दलीय और कोइ राजनैतिक पार्टी के साथ जुडा हुवा ना हो ऐसे उमीदवार को आपका मतदान दे… तो ..एक नयी क्रांती का प्रारंभ होगा और आप ही उसकी पहली नीव अपने आपसे रखेंगे…

आम आदमी के मतदान का बदला हुआ रूख ही भ्रष्टाचार को भगा शकता है ..अनशन या लोकपल भ्रष्टाचार भगा नहीं पायेगा..

जय भारत…     


Responses

  1. Raj prajapati jee, Aapko baaton se main sahamat hoon. Aur aapkee baat door door tak pahunchane ke liye aapkee anumati chahta hoon aur aashirwaad bhee.
    Dhanyawad.
    Sudesh

    • sudeshji..me apne liye nahi kheta hu,..sab ke liye kheta hu….me bhi chahta hu ke bhrastrachar dur ho,…lekin jo rasta ramdevji aur annaji ne apnaya hei vo sirf politics ke liye hei,…aapka msg. muje prerna deta hei..ki ..me life time ldta rhunga…me ldta hi rhunga…..aap is blog ki link apne dosto ko bhejte rhiye….hume ldna hei hmare desh aur hmare smaj ke liye……


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: